सब्जियों के भाव 5 प्रतिशत तक बढ़े , सड़कों पर बहाया दूध

जयपुर। प्रदेश में तीन दिन से चल रहे किसान आंदोलन का रविवार को भी असर देखन को मिला। जयपुर की सबसे बड़ी मुहाना मंडी में सब्जियों की आवक 15 प्रतिशत कम रही।

इससे सब्जियों के दामों में 25 प्रतिशत की वृद्धि हो गई। चौमूं सब्जीमंडी में दूसरे दिन भी कारोबार ठप रहा।

उधर, चौमूं के कालाडेरा में कुछ स्थानों पर दूध सड़कों पर डोल दिया गया। इससे दूध बेहद कम मात्रा में सप्लाई हुआ।

शाहपुरा के गांवों में किसानों ने घरघर जाकर सब्जियां वितरित कीं।

किसान आंदोलन से मुहाना फलसब्जी मंडी में सब्जियों की आवक 15% कम हो गई है।

वहीं चौमू सब्जी मंडी के व्यापारियों ने किसानों के समर्थन में रविवार को भी व्यापार नहीं किया।

उल्लेखनीय है कि चौमू मंडी से सब्जियों की जयपुर शहर में बड़ी सप्लाई होती है।

बड़ी मंडियों के साथ शहर के छोटे बाजारों में भिंडी, मिर्च, लौकी, ग्वार फली, टिंडा, कद्दू सहित अन्य सब्जियों के भावों में 25 फीसदी तक बढ़ोत्तरी हुई है।

मंडियों में सब्जी की कमी व भावों के बढ़ने के कारण लोग खपत से ज्यादा सब्जियां खरीद रहे हैं।

इन सब्जियों की हो रही जमाखोरी

मुनाफाखोर टमाटर, कद्दू, आलू, प्यास लौकी, तुरई, ग्वारफली, खीरा, तरबूज सहित अन्य की जमाखोरी कर रहे हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि ये सब्जियां 2 से 5 दिन तक खराब नहीं होती हैं।

इसके साथ ही होटल, ढाबा, रेस्टोरेंट वाले भी खपत से चार गुना तक ज्यादा खरीददारी कर रहे हैं।

मुहाना टर्मिनल मार्केट थोक फलसब्जी विक्रेता संघ के अध्यक्ष राहुल तंवर ने बताया कि रविवार को करीब 15% सब्जी की आवक कम रही। 25 % तक बढ़े दाम

तरबूज की गाड़ियों को रोका गया

शहर में बगरू व अन्य जगहों से आने वाली तरबूज की गाड़ियों को शहर में प्रवेश नहीं करने दिया गया।
शहर के आसपास के गांवों के किसान अब आंदोलनकारियों से बचकर सीधे कॉलोनियों में सब्जियां सप्लाई कर रहे हैं।
चौमूं के कालाडेरा में रविवार को दूध की सप्लाई लगभग बंद रही। यहां सुबह समितियों व डेयरियों में करीब 90 हजार लीटर दूध एकत्र होता है। रविवार को यह घटकर तीन हजार लीटर पर सिमट गई।
कई स्थानों पर दूध को सड़क पर डोला भी गया।
अमरसर (शाहपुरा) : अमरसरवाटी क्षेत्र में किसान महापंचायत के पदिधिकारियो
ने गांवगांव व ढाणी ढाणी जाकर किसानों से गांव बंद आंदोलन को सफल बनाने की अपील की।
दूसरी ओर युवा किसान संघ के पदाधिकारी व कार्यकर्ता अपने वाहनों
से घरघर सब्जी व दूध वितरित कर रहे हैं।
किसान महापंचायत के जिला अध्यक्ष फूलचंद बडबडवाल ने कहा
कि प्रजातंत्र मे अपने अधिकार प्राप्त करने के लिए एकजुट होकर संघर्ष करना पड़ता है।
इस दौरान पदाधिकारियो ने कस्बे सहित नायन, हनुतपुरा, करीरी, धानोता,
मुरलीपुरा, राडावास, जगतपुरा, माजीपुरा, नयाबास, धवली सहित दर्जन भर गांवों का दौरा कर गांव

बंद आंदोलन को शांतिपूर्वक सफल बनाने की अपील की।
हनुतिया ग्राम के आसपास में किसानो ने डेयरी में दूध देना बंद कर दिया है।

डेयरी बूथ सूने है। किसान दूध को बिखेरने के बजाय ग्रामीणों को वितरण कर रहे हैं।
यहां तीन किवंटल दूध बांटा गया।
Read Also:
  • 1
    Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...