सभी किसानों का कर्जा माफ होगा चाहे डिफाल्टर हो या ना हो: मंत्री धारीवाल

0
194
यह जानकारी किसानों की कर्ज माफी के लिए बनाई गई समिति के संयोजक और गहलोत सरकार भी यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने फसली ऋण माफी को लेकर बनाई गई अंतर विभागीय समिति की आज दूसरी बैठक खत्म होने के बाद दी है. सचिवालय में हुई सात मंत्रियों की कमेटी ने मुख्य सचिव के जरिए सभी जिला कलेक्टर से भूमि विकास बैंक को सरकारी बैंकों के उन लघु और सीमांत किसानों के आंकड़े मांगे हैं जिन्होंने इन बैंकों से 30 नवंबर 2018 तक का फसली ऋण ले रखा है।
जयपुर सचिवालय में किसानों की कर्ज माफी को लेकर हुई दूसरी बैठक में लघु और सीमांत किसानों के लिए अच्छी खबर निकल कर सामने आई है. बैठक में प्रदेश के सभी लघु और सीमांत किसानों को दो लाख तक का ऋण माफी करने का फैसला लिया गया है. जिसमें किसी भी तरीके से डिफॉल्टर और नॉन डिफॉल्टर का क्राइटेरिया नहीं होगा।
साथ ही उन्होंने साफ किया कि पिछले 5 सालों में उपज का सही मूल्य नहीं मिलने से जिन किसानों ने आत्महत्या की है उन सभी का सभी तरह का कर्ज माफ किया जाएगा. अनुमान के मुताबिक प्रदेश में 5 सालों में करीब 150 से अधिक किसानों ने आत्महत्या करी है, जिनमें से 70 अकेले हाड़ौती संभाग के किसान है. सात मंत्रियों की इस कमेटी ने मुख्य सचिव के जरिए कलक्टरों से भूमि विकास बैंकों और सहकारी बैंकों से उन लघु और सीमांत किसानों के आंकड़े मांगे है. जिन्होंने इन बैंकों से 30 नवंबर 2018 तक फसली ऋण ले रखा है, उन सभी का कर्ज माफ होगा।
कांग्रेस शासित राज्यों में सरकार अपने कर्ज माफी के वादे को जल्द से जल्द पूरा करना चाह रही है. जिसके लिए वह विभिन्न आंकड़ों के द्वारा किसानों तक उनका हित पहुंचाना चाहती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...