सांडोंं की लड़ाई में एक बच्चे की मौत, परिवार मुआवजे की मांग पर अड़ा

भरतपुर. शहर में आवारा सांडों की लड़ाई में एक बच्चे की मौत के बाद अब विवाद गहरा गया। मृतक के परिजनों व आक्रोशित लोगों ने बुधवार सुबह सूरजपोल गेट के पास सड़क पर शव रखकर प्रदर्शन किया। लोगों ने आवारा गाय सांडो से मुक्ति दिलाने और पीड़ित परिवार को मुआवजे की मांग की। साथ ही नगर निगम के जिम्मेदार अधिकारियों को मौके पर बुलाने की मांग की।

– राजस्थान के भरतपुर में सूरजपोल गेट मोहल्ले में पांच वर्षीय कुनाल पुत्र जुगलकिशोर जाटव मंगलवार शाम को अपने घर के बाहर दरवाजे पर बैठा हुआ था। तभी दो सांड आपस में लड़ते हुए आए और बच्चे पर जा गिरे। इससे घायल बालक को परिजन तुरंत अस्पताल ले गए।
– बालक की हालत गंभीर होने पर डॉक्टर ने बालक को जयपुर रैफर कर दिया लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई।

– लोगों ने आवारा सांडों से मुक्ति दिलाने के साथ-साथ पीड़ित परिवार को 10 लाख रुपए की आर्थिक सहायता और मृतक के पिता को नगर निगम में स्थाई नौकरी दिलाए जाने की मांग की। जो कि ठेके के कर्मचारियों के रूप में वर्तमान में निगम की रोड लाइट की सीढ़ी को खींचने का काम करता है। उसके 5 बेटी व एक बेटा है।

निगम में आपात बैठक बुलाई

– बच्चे की मौत के बाद नगर निगम ने आपात बैठक दोपहर को बुलाई है जिसमे तय किया जाएगा कि मृतक बच्चे के परिजनों को कितना मुआवजा दिया जाए। नगर निगम के आयुक्त शिवचरण मीणा ने बताया कि एक नंदी शाला बनाई जा रही है, जिसमे आवारा पशुओं को शिफ्ट किया जाएगा।

– शहर में आवारा सांडों का आतंक इस कदर कायम है की इन सांडों से आए दिन लोग चोटिल हो रहे है। हादसे के बाद से पीड़ित परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है और उन्होंने नगर निगम के खिलाफ लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है।

  • 2
    Shares

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...