सैंट्रल लैब के AC बीमार, मरीजों के जांच सैंपल पर पड़ रहा असर

कोटा। संभाग की सबसे बड़ी सेंट्रल लैब अव्यवस्थाओं की शिकार है। आग उगलती गर्मी के बावजूद सेंट्रल लैब के कई एसी खराब पड़े हैं। मेडिकल कॉलेज प्रशासन की अनदेखी के चलते मरीजो की जांचों पर असर पड़ रहा है।

एमबीएस अस्पताल की  लैब के बायोकेमेस्ट्री विभाग के जांच रूम में चार एसी  हैं।

जिनमें से तीन एसी पिछले कई माह से खराब पड़े हैं।
वहीं बायोकेमेस्ट्री विभाग के रुम नम्बर 10 में भी एक एसी बन्द पड़ा है।
एसी बन्द होने से कमरों में तापमान मेंटेन नहीं हो पा रहा है।
जिस कारण मशीनों में उपयोग में आने वाले रिएजेंट (केमिकल) पर असर पड़ रहा है।
जानकारों की मानें तो रिएजेंट को खराबी से बचाने के लिए 17 से 20 डिग्री
का तापमान बनाए रखना आवश्यक होता है। कमरे का तापमान ज्यादा होने पर रिएजेंट का असर कम हो जाता है,
जिससे मरीज के टेस्ट पर असर पड़ता है। कोटा में पारा 45  पार है और

लैब में एसी खराब होने से कमरे आग उगल रहे हैं। मशीनों की ट्रे में रिएजेंट पर  असर हो रहा है।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...