स्किन की स्क्रबिंग कब करें

0
14
ग्लोइंग और क्लियर स्किन पाने की बेस्ट रेमेडी है स्क्रब। लेकिन इसे जरूरत से ज्यादा यूज करने पर स्किन डैमेज हो सकती है। यही नहीं, स्क्रब को स्किन पर जेंटली न लगाने से भी नुकसान पहुंचता है। स्क्रब करने से फेस ग्लो करने लगता है, लेकिन तभी जब आप उसका यूज सही तरह से करें। अगर आधी-अधूरी नॉलेज के साथ इसका यूज करती हैं, तो फेस पर डार्क कलर के स्पॉट्स के साथ स्किन डैमेज हो सकती स्क्रबिंग रेग्युलर न करें। भले ही स्क्रब स्किन को स्मूद बनाती है और इससे स्किन के डेड सेल्स रिमूव हो जाते हैं। लेकिन अगर इस प्रोसेस को बार-बार रिपीट किया जाए तो स्किन डैमेज होने लगती है। साथ ही स्किन की शाइनिंग खत्म हो जाती है और खुरदरापन बढ़ जाता है। इसलिए हफ्ते में दो बार स्क्रब करना ही काफी है। स्क्रब हमेशा स्किन पर हल्का प्रेशर डालते हुए किया जाना चाहिए। खासतौर से आंखों और होंठों के आसपास के पार्ट्स पर क्योंकि ये पार्ट्स बेहद सेंसिटिव होते हैं। स्क्रब मिक्सचर बहुत हार्ड नहीं होना चाहिए। हां, दरदरा हो लेकिन बारीक दरदरा। खासतौर से संतरे के छिलके, पपीते के बीज, खूबानी के बीज आदि से तैयार किया गया स्क्रब बारीक होना बेहद जरूरी है। आपको स्किन टाइप के मुताबिक ही स्क्रब का सिलेक्शन करना चाहिए। ड्राई स्किन पर सीधे स्क्रब अप्लाई न करें। पहले अपने फेस को भिगोएं। फिर स्क्रब की थोड़ी-सी क्वांटिटी लेकर उसमें कुछ बूंदे पानी की मिलाएं। फिर फेस पर अप्लाई करें। ऐसे ही ऑयली स्किन को पहले जरूरत होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here