11 साल के  ‘नन्हे प्रोफेसर’ को सुनते लाखों लोग

हमाद ने पेशावर की यूनिवर्सिटी ऑफ स्पोकन इंग्लिश में अपनी स्पीच दी।
लोग उनकी बातों से स्तब्ध रह गए। इस दौरान हमाद ने कहा कि विफलता ही सफलता का आधार है। हर एक सेकंड चैलेंज भरी है
पेशावर । पाकिस्तान में इन दिनों एक ‘नन्हा प्रोफेसर’ छाया हुआ है।
नन्हा इसीलिए क्योंकि इसकी उम्र अभी सिर्फ 11 साल ही है, जबकि इसकी बातें बड़ों-बड़ों को भी सोचने पर मजबूर कर देती हैं। हमाद सैफी, मोटिवेशनल स्पीकर है। इसके अलावा हमाद का जलवा इंटरनेट पर भी खूब है।
हमाद के वीडियो को लाखों बार देखा गया है।हाल ही में हमाद ने पेशावर की यूनिवर्सिटी ऑफ
स्पोकन इंग्लिश में अपनी स्पीच दी। लोग उनकी बातों से स्तब्ध रह गए।
इस दौरान हमाद ने कहा कि विफलता ही सफलता का आधार है।

हर एक सेकंड चैलेंज भरी है। हमाद ने इस दौरान यूनिवर्सिटी के विद्यार्थियों से कहा कि अगर अपनी अंग्रेजी बढ़िया करनी तो उन्हें बराक ओबामा का भाषण सुनना चाहिए।

स्पीच लोगों में जबरदस्त जोश पैदा करती दिखती हैं। साथ ही लोगों भी उसे हाथों-हाथ लेते हैं।

यूनिवर्सिटी में भी हमाद की खुलकर तारीफ हुई।

राजनीतिक विज्ञान के विद्यार्थी बिलाल खान उसे सुनने पहुंचा।

उसने कहा कि हमाद ने उस पर गहरा प्रभाव डाला है।

कुछ महीनों पहले तक वह अपने जीवन से काफी निराश था, यहां तक कि मरने की सोचने लगा था।

लेकिन हमाद की स्पीच ने उसमें नई ऊर्जा भरी। बिलाल ने कहा- ‘मैं सोचने लगा

कि अगर 11 साल का बच्चा ये कर सकता है तो मैं क्यों नहीं ?”

Read Also:
  • 2
    Shares

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...