2019 के आम चुनाव में कांग्रेस का साथ नहीं देगी सपा, अखिलेश ने कहा-गठबंधन से पार्टी का संगठन कमजोर होगा

0
85
sp and congress
sp and congress

साल 2019 में लोकसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने बयान से संकेत दे दिया है कि अगले चुनाव में कांग्रेस तथा सपा में कोई गठबंधन नहीं होने जा रहा है। इस प्रकार सपा और कांग्रेस के अलग—अलग चुनाव लड़ने से बीजेपी को सीधे फायदा होने वाला है।

सपा मुखिया का बयान

संकेत मिला है कि समाजवादी पार्टी 2019 आम चुनाव में यूपी की सभी 80 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने पार्टी पदाधिकारियों तथा विधायकों की बैठक में कहा कि पार्टी यदि विपक्षी दलों के साथ गठबंधन पर अपना ध्यान केंद्रित करती है, इस परिस्थिति में जमीनी स्तर पर पार्टी का संगठन कमजोर होगा। इस प्रकार अखिलेश के बयान से यह साफ हो चुका है कि 2019 आमचुनाव में सपा-कांग्रेस में गठबंधन नहीं होगा।

अन्य विपक्षी दलों का रवैया

2019 आम चुनाव में बीजेपी को सीधा फायदा होने जा रहा है क्योंकि विपक्षी दलों में एकता का नामोनिशां दूर—दूर तक नजर नहीं आ रहा है। ​पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के साथ कांग्रेस के संबंध कहीं से भी अच्छे नहीं हैं। सोनिया के अध्यक्ष पद छोड़ने के बाद से वामपंथी पार्टियां निश्चित रूप से कांग्रेस से दूरी बनाती नजर आ रही हैं। बिहार में लालू यादव की राजद अभी खुद से ही लड़ाई लड़ते नजर आ रही है।

गठबंधन के मुद्दे पर कांग्रेस का नजरिया

कांग्रेस के एक धड़े का कहना है कि पार्टी अखिलेश के इस बयान को ज्यादा तवज्जो नहीं दे रही है, क्योंकि अखिलेश गठबंधन तोड़ने का संकेत देकर मोलभाव करना चाहते हैं। वहीं पार्टी के दूसरे तबके का यह मानना है कि गठबंधन से दूर रहकर अखिलेश अपना ही नुकसान करेंगे।

गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष पद संभालने के बाद राहुल ने 2019 आम चुनाव में मोदी की अगुवाई वाली बीजेपी के खिलाफ युवा गठबंधन बनाने की बात कही थी। जिसमें अखिलेश यादव, तेजस्वी यादव तथा स्टालिन को एक साथ लाने की बात दोहराई थी। पार्टी सूत्रों का कहना है कि राहुल और अखिलेश के बीच अच्छे संबंध हैं, लिहाजा अखिलेश यादव ने पार्टी कार्यकर्ताओं में जोश भरने तथा मोलभाव करने के लिए यह बयान दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...