2019 लोकसभा चुनावों को लेकर माकपा के येचुरी का बड़ा बयान

लखनऊ। माक्र्सवादी कम्यूनिस्ट पार्टी (माकपा) महासचिव सीताराम येचुरी ने मंगलवार को दावा किया कि 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद की परिस्थितियों के अनुसार राष्ट्रीय स्तर पर महागठबंधन बनेगा।

इसलिए विपक्ष को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करने की कोई जरूरत नहीं है।

येचुरी ने पत्रकारों से रू-ब-रू होते हुए कहा कि, आगामी आमचुनाव में क्षेत्रीय

दलों की बड़ी भूमिका होगी और ये दल गठबंधन कर चुनाव मैदान में उतर सकते हैं।

क्षेत्रीय समस्यायों को लेकर हर राज्य का फार्मूला अलग हो सकता है।

हालांकि भाजपा के खिलाफ चुनाव परिणाम आने के बाद सभी दलों को एक मंच में आना होगा और

यहीं महागठबंधन का कारक बनेगा।

उन्होंने कहा, जहां तक विपक्ष के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार का मामला है,

इसकी अभी कोई जरूरत नहीं है।

2004 में भाजपा ने अटल बिहारी वाजपेयी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया था

जबकि विपक्ष ने ऐसे किसी प्रत्याशी की घोषणा नहीं की थी मगर चुनाव के बाद कांग्रेस के मनमोहन

सिंह प्रधानमंत्री बने और वह देश के मजबूत प्रधानमंत्रियों में से एक थे।

पार्टी नेताओं के साथ कार्यक्रम और रणनीति पर चर्चा के बाद येचुरी ने

पत्रकार सम्मेलन में कहा कि यह समय विपक्षी एकता को मजबूत करने का है।

लोग खुले दिलो-दिमाग से भाजपा के खिलाफ विपक्षी उम्मीदवार के समर्थन में आगे आने लगे हैं।

जनता कतई नहीं चाहती कि नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंत्री की कुर्सी दोबारा मिले।

उन्होंने दावा किया कि वामदल इस अहम चुनाव के लिए विपक्षी एकता को मजबूत

करने में बड़ी भूमिका निभाएंगे। यह मुहिम शुरू हो चुकी है जिसके सार्थक परिणाम भी सामने आने लगे हैं।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...