2013 में आज ही के दिन इंग्लैंड को हरा धोनी ने बनाया था भारत को चैम्पियन्स ट्राफी का चैम्पियन

भारतीय क्रिकेट टीम के लिए आज के दिन के खास मायनें हैं। आज के ही दिन यानि 23 जून को 5 साल पहले महेन्द्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने वो कमाल किया था जो भारतीय टीम सालों से इंतजार कर रही थी। 23 जून 2013 के दिन भारतीय टीम ने क्रिकेट के जन्मदाता इंग्लैंड की सरजमीं पर अपने ताज में एक नायाब हीरा जड़ने में सफलता हासिल की।

आज ही के दिन भारत ने 5 साल पहले जीती थी चैंपियंस ट्रॉफी

5 साल पहले 23 जून को भारतीय टीम ने इंग्लैंड को उन्हीं की सरजमीं पर पटखते हुए मिनि विश्व कप यानि चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब अपने नाम किया था। भारतीय टीम के लिए ये पहला मौका था जब अकेले चैंपियंस ट्रॉफी पर कब्जा किया था। वैसे भारतीय टीम ने साल 2000 में चैंपियंस ट्रॉफी जीती थी लेकिन वो श्रीलंका के साथ जॉइंट विनर रहे थे।

बारिश के कारण खिताबी मुकाबला हुआ 20-20 ओवर का

इंग्लैंड के बर्मिंघम मैदान में 23 जून 2013 को भारत और इंग्लैंड के बीच चैंपियंस ट्रॉफी का खिताबी मुकबला खेला गया। बारिश से बुरी तरह से प्रभावित हुए इस मैच में इंग्लैंड ने टॉस जीतकर भारतीय टीम को पहले बल्लेबाजी करने के लिए आमंत्रित किया। बारिश की बाधा के बाद मैच को 20-20 ओवर का कर दिया गया।

भारत ने पहले खेलते हुए खड़ा किया 129 रन का स्कोर

भारतीय टीम के बल्लेबाजों ने इस टूर्नामेंट में जबरदस्त प्रदर्शन किया था ऐसे में टी-20 बने इस मैच में बड़े स्कोर की उम्मीद थी लेकिन भारतीय टीम को प्रमुख बल्लेबाज फ्लॉप रहे और देखते ही देखते भारतीय टीम की आधी पारी 66 रनों के स्कोर तक ही पैवेलियन जा पहुंची। इसके बाद विराट कोहली और रविन्द्र जडेजा ने टीम को संभाला और छठे विकेट के लिए 47 रन जोड़कर सम्मनानजनक स्कोर तक ले जाने की कोशिश की। आखिर में भारतीय टीम ने अपने 20 ओवर में 7 विकेट के नुकसान पर 129 रन बनाए। कोहली ने 43 और रविन्द्र जडेजा ने 33 रन की पारी खेली।

खराब शुरूआत के बाद इंग्लैंड उबरी

ये लक्ष्य इंग्लैंड के लिए मुश्किल नहीं था। इस लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लैंड की टीम की शुरूआत भी खराब रही। इंग्लैंड के शुरूआती 4 बल्लेबाज 46 रन के स्कोर पर ही चलते बने। इसके बाद ओएन मोर्गन और रवि बोपारा ने टीम को संभाला और 64 रनों की साझेदारी कर जीत की स्थिति में ले आए।

ईशांत ने सेट बल्लेबाज मोर्गन-बोपारा को निपटाकर दिलायी भारत को 5 रनों से जीत

इंग्लैंड को अंतिम 16 गेंदो में 20 रनों की जरूरत थी और 6 विकेट हाथ में थे। इंग्लैंड की जीत तय नजर आ रही थी क्योंकि मोर्गन और बोपारा की जोड़ी अच्छा खेल रही थी। तभी ईशांत शर्मा ने पहली 2 गेंदो पर 8 रन खाने के बाद 18वें ओवर की तीसरी और चौथी दो लगातार गेंदो में मोर्गन और बोपारा को चलता कर दिया। इसके बाद मैच में भारतीय टीम ने वापसी कर ली और अंततः इंग्लैंड 5 रनों से मैच हार गया और भारत ने ऐतिहासित जीत हासिल कर ली।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...