6 बैंक हो सकते हैं पीसीए कैटेगिरी के हवाले

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक 6 और सरकारी बैंकों को प्रॉम्प्ट करेक्टिव एक्शन (पीसीए) कैटिगरी में डाल सकता है। अधिकारियों ने बताया कि इनमें पीएनबी, यूनियन बैंक

ऑफ इंडिया और सिंडिकेट बैंक के नाम शामिल हो सकते हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि इससे वित्त मंत्रालय के कमजोर बैंकों के अच्छे कर्ज को मजबूत बैंकों को बेचने की योजना भी लटक सकती है। अगर आरबीआई अगले एक महीने में इन बैंकों

को पीसीए कैटिगरी में डालता है तो ऐसे बैंकों की संख्या 17 पहुंच जाएगी।

इससे पहले इलाहाबाद बैंक को मई में इस कैटिगरी में डाला गया था। बैंक से बिना

रेटिंग वाले और हाई रिस्क कैटिगरी में लोन भी कम करने को कहा गया है। देना बैंक को भी नए लोन देने से रोका गया है।

वित्त मंत्रालय के एक बड़े अधिकारी ने बताया कि इन 6 बैंकों का प्रदर्शन सभी मानकों पर खराब नहीं है।

इसलिए आरबीआई उनके साथ कुछ रियायत बरत सकता है। उन्होंने

कहा कि अगर इन बैंकों को पीसीए कैटिगरी में नहीं डाला जाता है तो

उनके हेल्दी लोन को बेचने की योजना सफल हो सकती है।

‘सरकार और आरबीआई के साथ इन बैंकों ने बातचीत की है और

अगली एक या दो तिमाही में वे रिकवर कर जाएंगे।

अगर आरबीआई पीसीए के तहत उन पर बंदिशें लगाता है तो

उनके लिए जल्द रिकवर करना मुश्किल हो जाएगा।अधिकारी ने कहा कि

आरबीआई इन बैंकों के साथ कुछ दरियादिली दिखा सकता है। कुछ बैंकों की उससे बातचीत भी हुई है। 

Read Also:
  • 1
    Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...