92 साल के महातिर होंगे मलेशिया के पीएम

 कुआलालम्पुर। मलेशिया में हुए आम चुनाव में घोटाले के आरोपों से घिरे प्रधानमंत्री नजीब रज्जाक का मुकाबला 92 वर्षीय नेता महातिर मोहम्मद से था। बुधवार को आए नतीजों में महातिर मोहम्मद ने आम चुनावों में ऐतिहासिक जीत हासिल की हैं। 92 साल के महातिर ने बैरिसन नेशनल (बीएन) गठबंधन को चुनावों में करारी शिकस्त दी है।  महातिर के विपक्षी गठबंधन की जीत मलेशिया में एक राजनीतिक भूकंप की तरह है।
यहां दशकों से एक ही गठबंधन सत्ता पर काबिज था। बैरिसन नेशनल अपने गठबंधन संयुक्त मलेशिया राष्ट्रीय संगठन (यूएमएनओ) के साथ 1957 में मलेशिया को ब्रिटेन से आजादी मिलने के बाद से ही सत्ता में थी। शपथ ग्रहण के साथ ही महातिर दुनिया के सबसे बुजुर्ग निर्वाचित नेता बन जाएंगे। शपथ ग्रहण समारोह की वजह से गुरुवार और शुक्रवार को देश में सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की गई है।
बीते कुछ सालों में बीएन की लोकप्रियता में कमी देखने को मिली और इस चुनाव में उसे सिर्फ 79 सीटें ही मिलीं। 2013 में हुए चुनावों में भी विपक्ष सत्ता के करीब पहुंचा था, उसने 89 सीटों पर जीत हासिल की थी। बैरिसन नेशनल पार्टी पिछले 60 सालों से सत्ता में बनी हुई थी। महातिर के विपक्षी गठबंधन पकातन हरप्पन ने चुनाव में 121 सीटों पर जीत हासिल की है जो सरकार बनाने के लिए आवश्यक 112 सीटों की तय सीमा से अधिक है। बैरिसन नेशनल अपने गठबंधन संयुक्त मलेशिया राष्ट्रीय संगठन (यूएमएनओ) के साथ 1957 में मलेशिया को ब्रिटेन से आजादी मिलने के बाद से ही सत्ता में थी।
बनेगे दुनिया के सबसे बुजुर्ग निर्वाचित नेता
इस शपथ ग्रहण के साथ ही महातिर दुनिया के सबसे बुजुर्ग निर्वाचित नेता बन जाएंगे। शपथ ग्रहण समारोह की वजह से गुरुवार और शुक्रवार को देश में सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की गई है। महातिर के विपक्षी गठबंधन ने चुनाव में वादा किया है कि अगर वह सत्ता में आती है तो रज्जाक की महत्वाकांक्षी योजना जीएसटी (गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स) को डिब्बे में डाल देगी। मलेशिया में जीएसटी 2015 में लागू हुई थी। परिणामों की घोषणा होने के साथ ही महातिर के पार्टी के समर्थक सड़कों पर उतर आए और जश्न मनाने लगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here