अरुणाचल : बुजुर्ग महिलाएं ने बढ़ाया लोकतंत्र का सौंदर्य

0
35

अरुणाचल के आपातानी समुदाय की इस बुजुर्ग महिला का चेहरा भले ‘कुरूप’ हो, लेकिन लोकतंत्र की असली सुंदरता इसी में झलकती है। इस समुदाय की 99 फीसदी महिलाएं मतदान में हिस्सा लेती हैं। यह बताता है कि डर और अराजकता को करीब से महसूस करने वाले ही लोकतंत्र की असली ताकत पहचान सकते हैं। कभी खुद को ‘बदसूरत’ बनाने के लिए अपने चेहरे पर टैटू गुदवाने वाली इस समुदाय की महिलाएं चुनाव में हर बार बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती हैं। .

तेलंगाना : मिट्टी के टीले के नीचे दबकर 10 मजदूरों की मौत

टैटू गुदवाने की कहानी : पूर्वोत्तर में बरसों पहले समुदायों की आपस में लड़ाई आम बात थी। कहा जाता था कि आपातानी समुदाय की महिलाएं सबसे खूबसूरत होती हैं। इस वजह से लड़ाई के दौरान हमलावर महिलाओं को जबरदस्ती उठाकर ले जाते थे। आत्मसम्मान बचाए रखने के लिए उस समय महिलाओं ने खुद ही अपनी खूबसूरती खत्म कर डाली। कम उम्र में ही लड़कियों ने चेहरे पर टैटू गुदवाने और नाक में बड़ा छेद करवाना शुरू कर दिया। .

मतदान में बढ़-चढ़कर लेती हैं हिस्सा : उम्र, बीमारी और लंबे संघर्ष का असर अब इन बुजुर्ग महिलाओं पर दिखने लगा है। बावजूद इसके मतदान की इच्छा आज भी जवान है। जीरो में रहने वाली 82 वर्षीय डैन्यी मानू ने सभी चुनावों में मतदान किया है। पोती मामूंग के माध्यम से उन्होंने बताया कि आज तक ऐसा कभी नहीं हुआ कि उन्होंने वोट नहीं किया हो।

इस दिन रिलीज होगा ‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर 2’ का ट्रेलर, पोस्टर ने मचाया हंगामा

समय के साथ परंपरा बंद- 
स्‍थानीय युवा संगठनों की मदद से यह परंपरा बंद हो गई। वर्तमान में 1200 से 1400 ही ऐसी महिलाएं बची हैं, जिनके चेहरे पर ये टैटू हैं।

क्या कहते हैं आंकड़े – 76.61 फीसदी मतदान हुआ था पिछले चुनाव मे।
80.05 प्रतिशत वोटिंग हुई अकेले जीरो क्षेत्र में

————————————————————————-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...