डॉ भीमराव आंबेडकर : जानें संविधान निर्माता से जुड़ी कुछ बातें….

0
39

आज भीमराव आंबेडकर की 128वीं जयंती है। इस मौके पर पूरा देश उन्हें याद कर रहा है। ना केवल भारत बल्कि दुनियाभर में भारतीय संविधान के रचयिता, समाज सुधारक और महान नेता डॉक्टर भीमराव आंबेडकर की जयंती धूमधाम से मनाई जाती है। भीमराव आंबेडकर बाबा साहेब के नाम से जाने जाते थे। वह जीवनभर समानता के लिए संर्घष करते रहे। यही वजह है कि उनकी जयंती को समानता और ज्ञान दिवस के रूप में मनाया जाता है। चलिए आपको बताते हैं उनसे जुड़ी बातें-भीमराव आंबेडकरडॉक्टर भीमराव आंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल, 1891 को मध्यप्रदेश के महू में हुआ था। हालांकि वह मराठी परिवार से थे। वह मूल रूप से महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले के आंबडवे गांव से थे। उनके पिता का नाम रामजी मालोजी और माता का नाम भीमाबाई था। महार जाति से ताल्लुक रखने वाले आंबेडकर को अपने जीवन में छुआछूत का सामना करना पड़ा। वह महार जाति के थे, जिसे समाज में अछूत माना जाता है।

मिंडी कैलिंग संग फिल्म में काम करेंगी प्रियंका

आंबेडकर बचपन से ही तीव्र बुद्धि के थे। लेकिन समाज में छुआछूत के कारण उन्हें प्रारंभिक शिक्षा लेने में कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। बाबा साहेब का उपनाम उनके गांव के नाम के आधार पर रखा गया था। उनके स्कूल के एक शिक्षक को उनसे काफी लगाव था। उस शिक्षक ने ही आंबडवे को सरल बनाते हुए उसे आंबेडकर किया।Related image

बाबे साहेब मुंबई की एल्फिंस्टन रोड पर स्थित गवर्नमेंट स्कूल के पहले ऐसे छात्र थे, जिनके साथ छुआछूत का व्यवहार किया जाता था। साल 1913 में उनका अमेरिका के कोलंबिया विश्वविद्यालय में पढ़ने के लिए चयन हुआ। यहां उन्होंने राजनीति विज्ञान में ग्रेजुएशन किया। फिर साल 1916 में उन्हें एक शोध के लिए पीएचडी से सम्मानित किया गया।

उछाल के साथ बंद हुआ शेयर बाजार

बाबा साहेब लंदन में अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट करना चाहते थे लेकिन उन्हें बीच में अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी। क्योंकि उनकी स्कॉलरशिप खत्म हो गई थी। इसके बाद उन्होंने ट्यूटर समेत कई कामों को किया लेकिन सामाजिक भेदभाव के कारण सफल नहीं हो पाए। उन्होंने मुंबई के सिडनेम कॉलेज में प्रोफैसर के तौर पर भी काम किया। फिर 1923 में उन्होंने ‘द प्रॉब्लम ऑफ द रुपी’ नाम से एक शोध किया, जिसके लिए उन्हें लंदन यूनिवर्सिटी ने डॉक्टर्स ऑफ साइंस की उपाधि दी। इसके बाद साल 1927 में उन्हें कोलंबंनिया यूनिवर्सिटी ने भी उन्हें पीएचडी की डिग्री दी गई।

————————————————————————-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...