टेस्ट ट्यूब तकनीक से पहली बार जन्मे शेर के बच्चे

0
110

प्रिटोरिया। दक्षिण अफ्रीका की राजधानी प्रिटोरिया में एक संरक्षण केंद्र की इस तस्वीर में खेलते दिख रहे दो छोटे शेर शावक थोड़े अनोखे हैं। दरअसल, ये शेर शावक कृत्रिम गर्भाधान से पैदा हुए हैं। शेर शावकों की यह जोड़ी दुनिया की पहली ऐसी जोड़ी है। प्रिटोरिया विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक जो अफ्रीकी शेरनियों के प्रजनन तंत्र पर शोध कर रहे हैं, ने आईवीएफ तकनीक की मदद से इन शावकों को जन्म देनें में सफलता हासिल की है।

प्रिटोरिया मैमल रिसर्च इंस्टिट्यूट के डायरेक्टर आंद्रे गांसविंड ने बताया कि 25 अगस्त को पैदा हुए ये दोनों शावक, जिनमें से एक नर और एक मादा है, अब पूरी तरह से स्वस्थ और सामान्य हैं। तकरीबन 18 महीनों के गहन परीक्षण और मेहनत के बाद वैज्ञानिकों को यह सफलता हासिल हुई है।

आंद्रे गांसविंड ने बताया कि इन शावकों के लिए हमने एक स्वस्थ शेर का स्पर्म लिया था। उसके बाद जब शेरनी का हार्मोन स्तर सामान्य अवस्था में हुआ फिर हमने स्पर्म को कृत्रिम तरीके से ट्रांसपोर्ट किया। अच्छी बात यह रही कि हम अपने इस प्रयोग में कामयाब रहे।

आंद्रे गांसविंड ने आगे कहा कि इसके लिए हमने कई प्रयास किए थे, लेकिन इसमें हमारा बहुत अधिक समय नहीं लगा। उन्होंने कहा कि इस सफलता को दोहराया जा सकता है और वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि इस तकनीक की मदद से अन्य लुप्तप्राय प्रजातियों को भी बचाया जा सकता है।

वहीं, इंटरनैशनल यूनियन फॉर कंजरवेशन ऑफ नेचर (आईयूसीएन) के मुताबिक, ’26 अफ्रीकी देशों में शेरों की प्रजाति विलुप्त होने के कगार पर है और पिछले दो दशकों में इनकी संख्या में 43 प्रतिशत की कमी आई है। इस समय यहां लगभग 20,000 शेर ही बचे हैं। अगर इन्हें बचाने का प्रयास नहीं किया जाता तो ये वास्तव में विलुप्त हो जाएंगे।

  • 2
    Shares

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...