जिस्मफरोशी के लिए 8 लड़कियां भेजी जा रही थी कुवैत, छुड़ाई गई

0
63

नई दिल्ली। मानव तस्करी एक अभिशाप के रूप में उभर कर सामने आ रहा है। गुरुवार को एक बार फिर दिल्ली महिला आयोग ने पहाड़गंज में छापा मार 8 नेपाली लड़कियों को बचाया है। इन सभी लड़कियों को एक निजी होटल से बचाया गया है। एक एनजीओ ने भी इस रेस्क्यू ऑपरेशन में डीसीडब्ल्यू की सहायता की है। इन 8 लड़कियों को ईरान और कुवैत भेजा जा रहा था। इन सबको रेस्क्यू कर नबी करीम थाने में पहुंचाया गया।

इससे पहले भी दिल्ली महिला आयोग ने एक हफ्ते के अंदर 73 नेपाली लड़कियों को रेस्क्यू किया था। जिन्हें गल्फ देशों में भेजा जा रहा था। यहां सिर्फ नेपाली लड़कियों को ही देह तस्करी के लिए लाया गया था. इन सभी लड़कियों को ईरान, कुवैत जैसे देशों में भेजा जा रहा था। यह सभी लड़किया नेपाल के भूकंप प्रभावित इलाकों से हैं जिन्हें काम का झांसा देकर यहां लाया गया था। जिसकी जानकारी दिल्ली पुलिस को भी नही थी।

स्वाति मालीवाल ने जताई नाराजगी
इस विषय मे दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा है कि दिल्ली में ऐसे मानव तस्करों के गिरोह पनपते ही रहेंगे जब तक इन पर जवाबदेही तय नहीं होती। पुलिस को कैसे पता नहीं चलता कि नेपाली लडकियां किस कमरे में बंद हैं। शायद इसलिए ही बात चल रही है कि सीसीटीवी पुलिस की मर्जी के बिना न लगाएं. ताकि कहीं हफ्ते की लेन देन में पकड़ में ना आ जाए। ट्विटर पर स्वाति ने कहा कि इन सारी लड़कियों को गल्फ देशों में नौकरी का झांसा देकर ले जाया जा रहा था।  होटल भी इस क्राइम में शामिल है। दुखद है कि दिल्ली, नेपाली लड़कियों को गल्फ देशों में भेजने का एक ट्रांजिट रूट बन गया है। मैं गृह मंत्रालय और नेपाल सरकार से इसे रोकने की मांग करती हूं।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...