हथियार तस्करों का गढ़ बन रही राजधानी, भारी मात्रा में यूपी एमपी से आए हथियार जप्त

0
291

जयपुर। (विजय सैन) राज्य में आगामी विधानसभा चुनाव से पहले जयपुर पुलिस ने बदमाशों पर लगाम लगाने के लिए अपनी कमर कस ली है। शहर में अवैध रूप से तस्करी करने वाले हथियार तस्करों के खिलाफ जयपुर पुलिस कमिश्नरेट के चारों जिलों में स्पेशल टीम का गठन किया गया है। स्पेशल टीम लगातार हथियार तस्करों को और वारदात की फिराक में हथियार के साथ घूमते बदमाशों को गिरफ्तार करने में जुटी हुई है।

पिछले 2 महीने में पुलिस की स्पेशल टीम 50 से भी अधिक बदमाशों को हथियारों के साथ गिरफ्तार कर चुकी है और हथियारों का एक बड़ा जखीरा भी बरामद कर चुकी है। पुलिस ने कार्रवाई को अंजाम देते हुए पिछले दो महीनों में 24 देशी कट्टे, 14 पिस्टल, 12 बोर की बंदूक, रायफल और देशी रिवाल्वर सहित अनेक हथियार जब्त किए हैं। साथ ही दर्जनों बदमाशों को गिरफ्तार भी किया है।

विश्वसनीय लोगों को ही देते हैं हथियार
हथियारों के साथ पकड़ में आए तस्करों से इस बात का भी खुलासा हुआ है कि ये लोग राज्य में जहां भी हथियारों की तस्करी करते हैं वहां इन्होंने अपने विश्वसनीय लोगों को डिलीवरी करने का काम सौंप रखा है। तस्करों का काम है दूसरे राज्यों से हथियार लाना और यहां उनका आदमी ग्राहकों को माल सप्लाई करता है। ऐसे लोगों पर भी पुलिस अपनी पैनी निगाहें बनाए हुए है और हथियारों के साथ बदमाशों की धरपकड़ का अभियान भी लगातार जारी है।

बदमाश दूसरे राज्यों से हथियारों की खेप लेकर पहुंच रहे
पुलिस अधिकारियों के अनुसार राजस्थान में हथियार तस्कर और बदमाश दूसरे राज्यों से हथियारों की खेप लेकर पहुंच रहे हैं। अधिकतर बदमाश यूपी और एमपी से हथियार खरीद कर राजस्थान में ला कर बेच रहे हैं। पकड़ में आए बदमाशों से पूछताछ में ये भी सामने आया है कि उत्तर-प्रदेश और मध्य प्रदेश में हथियार कम कीमत पर आसानी से मिल जाते हैं एवं यहां राजस्थान में उन्हें अच्छी कीमत पर बेच दिया जाता है। राजस्थान में हथियारों की खरीद-फरोख्त में तस्करों को अच्छा मुनाफा मिलना भी इस धंधे के ज्यादा पैर पसारने का एक मुख्य कारण भी है।

इनका कहना है
राजस्थान में हथियार तस्कर और बदमाश दूसरे राज्यों से हथियारों की खेप लेकर पहुंच रहे हैं। पुलिस पड़ताल में भी इस बात का खुलासा हुआ है। ऐसे लोगों पर पुलिस अपनी पैनी निगाह बनाए हुए है और हथियारों के साथ बदमाशों की धरपकड़ का अभियान लगातार जारी है। राजधानी के चारों जिलों की स्पेशल टीम ऐसे लोगों पर निगरानी रख गिरफ्तार करने का काम कर रही है।

नितिन दीप बल्गन
एडिशनल पुलिस कमिश्नर, जयपुर कमिश्नरेट

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...