दिगंबर अखाड़े में लगी आग, कल से शुरू होगा कुंभ मेला

0
38

प्रयागराज। प्रयागराज में आयोजित हो रहे कुंभ मेले में सोमवार को आग लगने की घटना सामने आई है। यहां दिगंबर अखाड़े और उसके पास वाले टेंट में आग लग गई। दमकल की कई गाडिय़ां मौके पर आग बुझाने में जुटी हुई है। मौके पर मौजूद लोगों के मुताबिक यह आग रसोई गैस सिलेंडर में ब्लास्ट के कारण हुई है। साधु-संत और अन्य सभी लोग पूरी तरह से सुरक्षित हैं। फिलहाल किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। करीब दर्जनभर टेंट को आग ने अपनी चपेट में ले लिया है। एक टेंट में आग लगने के बाद यह तेजी से फैलने लगी। आग बुझाने के लिए दमकल की गाडिय़ां पहुंच चुकी हैं।Kumbh Mela 2019 : Fire Breaks Out At A Tent In Digambara Akhara At Kumbh In Prayagraj - Allahabad News in Hindiआग लगने की घटना के बाद से ही चारों तरफ धुएं का गुबार छा गया और लोग इधर-उधर भागते हुए नजर आए। बता दें, कुंभ कल से शुरू होने वाला है। आग कुंभ के सेक्टर 16 इलाके में लगी यहां एलपीजी सिलेंडर में रिसाव हो गया जिस वजह से सिलेंडर फट गया। बचाव और राहत कार्य जारी है। फायर ब्रिगेड की गाडिय़ां आग पर काबू पाने की पूरी कोशिश कर रही हैं। वहां मौजूद कुछ लोगों ने बताया कि अचानक ही दिगंबर अखाड़े के एक टेंट में आग लग गई थी जिससे उनका सामान जलकर खाक हो गया। धीरे-धीरे यह आग पास के टेंटों में भी फैलनी शुरू हो गई।

ईरान में दुर्घटनाग्रस्त हुआ सेना का मालवाहक विमान

प्रयागराज में कुंभ 14 जनवरी 2019 से शुरू होकर मार्च 2019 (शिवरात्रि) तक चलेगा। 14 को रात्रि में तथा 15 जनवरी को उदय तिथि पडऩे के कारण मकर संक्रांति 15 को ही मनाई जानी चाहिए। मकर संक्रांति का पुण्य काल 15 जनवरी प्रात:काल से सूर्यास्त तक रहेगी। पूरे दिन पर्व का शुभ मुहूर्त है। इसी दिन प्रथम शाही स्नान रहेगा। प्रथम शाही स्नान प्रयाग राज में पूरी श्रद्धा से मनाई जाती है। प्रात: से ही स्नान प्रारम्भ हो जाता है। भगवान सूर्य की उपासना की जाती है। श्री आदित्यहृदयस्तोत्र का पाठ किया जाता है। जगह जगह पंडालों में भागवत तथा श्री राम कथा व शिव पुराण की कथाएं होती हैं।Kumbh Mela 2019 : Fire Breaks Out At A Tent In Digambara Akhara At Kumbh In Prayagraj - Allahabad News in Hindi

महीनों से चल रही है तैयारी…
पूरे विश्व के कोने कोने से श्रद्धालु आते हैं तथा पूरे कुम्भ तक रुककर अनंत पुण्य की प्राप्ति करते हैं। प्रथम शाही स्नान का महत्व सर्वाधिक है। इसी दिन से कुंभ का श्री गणेश होता है। अत: प्रथम दिवस के दिन प्रयागराज में कुम्भ स्नान का महत्व सर्वाधिक है।

नए साल में पेट्रोल और डीजल की महंगाई का सबसे बड़ा झटका

इसके लिए प्रयागराज में महीनों से तैयारियां की जा रही है। देश दुनिया भर से करोड़ों श्रद्धालुओं के जुटने की उम्मीदें हैं। माना जाता है कि प्रयागराज में होने वाला कुंभ प्रकाश की ओर ले जाता है, यह एक ऐसा स्थान है जहां बुद्धिमत्ता का प्रतीक सूर्य का उदय होता है। हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार त्रिवेणी संगम के पवित्र जल में डुबकी लगाकर मनुष्य अपने समस्त पापों को धो डालता है। पवित्र गंगा में डुबकी लगाने से मनुष्य और उसके पूर्वज दोषमुक्त हो जाते हैं।

———————————————————————————–

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...