नदी में कूदी महिला, नीचे नहा रहे उसी के बच्चों ने बचाया

चित्तौड़गढ़. शहर में रविवार दोपहर एक घटना ने लोगों को हतप्रभ कर दिया। जब एक महिला ने सेतु मार्ग पर करीब 25 फीट ऊंचे पुल से नदी में छलांग लगा दी।

नीचे नहा रहे उसी के बच्चों ने महिला को पानी से निकाल कर जान बचा ली।

शरीर पर चोटें लगने के बावजूद उसका अस्पताल में उपचार नहीं करवाया गया।

मध्यप्रदेश के रतलाम हाल पन्नाधाय बस स्टैंड क्षेत्र में खानाबदोश परिवार की 45 वर्षीय बद‌दू पत्नी शेरसिंह मीणा ने
दोपहर में घरेलू परेशानी के चलते महाराणा प्रताप सेतु मार्ग स्थित गंभीरी नदी में छलांग लगा दी।
संयोग से तब नदी में नहा रहे उसके ही बच्चों सहित अन्य ने उसे बचा लिया।
महिला की 16 वर्षीय पुत्री सोना सहित रेखा पुत्री भैरू मीणा, अजय, काला, पुष्कर, मुस्कान,
पायल ने बद‌दू को बाहर निकाला और साइकिल लॉरी पर लिटाकर पन्नाधाय बस स्टैंड स्थित डेरे पर ले गए।
फिर उसे गांधीनगर डिस्पेंसरी ले जाने लगे तो उसने मना कर दिया, चट्टानों से टकराने से उसके सिर सहित शरीर के कई हिस्सों में चोट आई है।
नशे व चोट लगने से महिला बाद में कुछ बोलने को तैयार नहीं हुई पर
परिवार के अनुसार वह मानसिक रूप से परेशान भी रहती है।
पन्नियां बीनने का काम करता है परिवार

यह परिवार भंगार व प्लास्टिक बीनकर अपना गुजारा करता है। बद‌्दू और उसके पति को नशे की लत है।

पड़ोसियों ने बताया कि खानाबदोश लोग आए दिन आपस में गाली-गलौच कर लड़ाई-झगड़ा करते हैं।

तीन बार लोगों ने रोका, चौथी बार में कूद ही गई
परेशानी: छह बच्चे, फिर भी नशे की लत… आत्महत्या का प्रयास करने वाली महिला के छह बच्चे हैं। इसके बावजूद पति और खुद को शराब के नशे की लत ऐसी कि न मेहनत मजदूरी का ठिकाना और न बच्चों की फिक्र।

परिवार व डेरे वालों से परेशानी पूछने पर एक महिला बोली कि इन पर कर्जा भी चढ़ा हुआ है।

पति-पत्नी आपस में भी झगड़ते रहते हैं। एक अन्य महिला ने कहा कि इनका पारिवारिक मामला है।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...