Facebool
Twitter
Youtube

PM मोदी ने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी जाकर सरदार पटेल को दी श्रद्धांजलि

  • Mahanagartimes
  • 31 October, 2020

देश

PM मोदी ने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी जाकर सरदार पटेल को दी श्रद्धांजलि

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के पहले उप प्रधानमंत्री तथा गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल को उनकी 145 वीं जयंती पर आज विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की। मोदी ने अपने ट्विटर संदेश में कहा, 'राष्ट्रीय एकता और अखंडता के अग्रदूत लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल को उनकी जन्म-जयंती पर विनम्र श्रद्धांजलि।' सरदार पटेल की जंयती को देश भर में एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है और इस मौके पर विभिन्न कार्यक्रमों में हिस्सा लेने के लिए प्रधानमंत्री गुजरात के दो दिन के दौरे पर गये हुए हैं। उन्होंने सरदार पटेल को श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद देशवासियों को राष्ट्रीय एकता की शपथ भी दिलाई। इस दौरान 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पर हेलीकॉप्टर से पुष्पवर्षा भी की गई। इस परेड में केंद्रीय रिजर्व सुरक्षा बल, सीमा सुरक्षा बल, भारतीय-तिब्बत सीमा पुलिस, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल, राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड के जवान शामिल हुए। सीआरपीएफ की महिला अधिकारियों द्वारा इस मौके पर राइफल ड्रिल का प्रदर्शन भी किया गया। केवडिया की आदिवासी विरासत को भी एक सांस्कृतिक कार्यक्रम के जरिए लोगों के सामने प्रदर्शित किया गया। सरदार पटेल भारत के पहले गृहमंत्री थे और स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद देश की रियासतों का एकीकरण कर अखंड भारत के निर्माण का श्रेय उनकी सियासी और कूटनीतिक क्षमता को दिया जाता है। वर्ष 2014 से हर साल 31 अक्टूबर को 'नेशनल यूनिटी डे या 'राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है। सरदार पटेल भारत के पहले गृहमंत्री थे और स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद देश की रियासतों का एकीकरण कर अखंड भारत के निर्माण का श्रेय उनकी सियासी और कूटनीतिक क्षमता को दिया जाता है। गुजरात में नर्मदा जिले में सरदार सरोवर बांध के सामने सरदार पटेल की 182 मीटर ऊंची लौह प्रतिमा का निर्माण किया गया है। इस प्रतिमा का नाम 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी रखा गया है। यह प्रधानमंत्री मोदी की ही परिकल्पना थी। सरदार पटेल का जन्म 31 अक्टूबर 1875 को गुजरात के खेड़ा जिले में हुआ था। इधर, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू , केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह और दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने आज यहां देश के पहले उप प्रधानमंत्री तथा गृह मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल को उनकी जयंती पर श्रद्धा सुमन अर्पित किये। कोविंद, नायडू , शाह और बैजल सुबह पौने आठ बजे पटेल चौक स्थित सरदार पटेल की प्रतिमा पर पहुंचे और उन्हें श्रद्धांजि अर्पित की। श्रद्धा सुमन अर्पित किये जाने के बाद शाह ने वहां मौजूद लोगों तथा देशवासियों को राष्ट्रीय एकता तथा अखंडता बनाये रखने की शपथ दिलायी। साथ ही उन्होंने लोगों से देश की आंतरिक सुरक्षा बनाये रखने का संकल्प लेने का भी आह्वान किया। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए आज कहा कि आज के मजबूत भारत की नींव उन्होंने ही रखी थी। शाह ने अपने ट्विटर संदेश में कहा , “ राष्ट्रीय एकता के प्रतिबिंब व हर भारतीय के हृदय में बसने वाले लौह पुरुष सरदार पटेल जी को कोटिश: नमन। आजादी के बाद सैकड़ों रियासतों में बिखरे भारत का एकीकरण कर, उन्होंने आज के मजबूत भारत की नींव रखी। उनका दृढ़ नेतृत्व, राष्ट्र समर्पण व विराट योगदान भारत कभी नहीं भुला सकता।” उन्होंने कहा , “ संविधान एवं सनातन के संतुलन के अद्वितीय प्रतीक सरदार पटेल ने देश के एकीकरण से लेकर सोमनाथ मंदिर के पुनर्निमार्ण तक अपने जीवन का क्षण-क्षण भारत में एक राष्ट्र का भाव जागृत करने के लिए अर्पित किया। कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से ऐसे महान राष्ट्रभक्त लौह पुरुष सरदार पटेल के चरणों में वंदन।” इस मौके पर हर वर्ष एकता दौड़ का भी आयोजन किया जाता था लेकिन इस बार कोरोना महामारी के कारण राजधानी दिल्ली में इस दौड़ का आयोजन नहीं किया जा सका।