​राजस्थान:रुपयों के लालच में हुई सिक्युरिटी गार्ड की हत्या, तीन आरोपी गिरफ्तार

  • Mahanagartimes
  • 29 October, 2020

क्राइम

मोबाइल से ऑनलाइन पेमेंट के दौरान खाते में रूपए देख बनाया प्लान

मोबाइल नहीं लूट सके तो कर दी हत्या
महानगर संवाददाता
जयपुर। सांगानेर सदर इलाके में मंगलवार को हत्या कर महात्मा गांधी अस्पताल रोड पर प्लास्टिक कट्टे में फेंकी गई सिक्युरिटी गार्ड की लाश के मामले में पुलिस ने 24 घंटे में खुलासा कर दिया है। पुलिस ने रुपयों के लालच में वारदात को अंजाम देने वाले तीन बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है, जिनमे मृतक की पुत्रवधु का मुंहबोला भाई शामिल है।
अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर (प्रथम) अजय पाल लाम्बा ने बताया कि सीतापुरा स्थित फैक्ट्री में सुरक्षा गार्ड की नौकरी करने वाले घनश्याम वैष्णव (55) की हत्या के मामले में आरोपी तेजसिंह गुर्जर (21), असलम खान (19) और अभिषेक उर्फ गोलू सैन (21) निवासी मलारना डूंगर सवाईमाधोपुर को गिरफ्तार किया गया है। मुख्य आरोपी तेज सिंह ने वारदात में अपने दोनों साथियों को शामिल किया था। सप्ताहभर पहले ही तेजसिंह गुर्जर व असलम खान सवाईमाधोपुर से यहां आए थे और अपनी तीसरे साथी गोलू के पास ही किराए का कमरा लेकर रहने लगे।
यूं रची गई साजिश :- डीसीपी दक्षिण मनोज कुमार चौधरी ने बताया कि 22 अक्टूबर को घनश्याम का बेटा-बहु तेजसिंह को उनके खाने की जिम्मेदारी देकर गांव गए थे। घनश्याम ने तेजसिंह से मोबाइल का स्क्रीन लॉक बदलवाया था। तेजसिंह को ऑनलाइन पेंमेट एप्प के जरिए बैंक खाते में जमा 1 लाख 91 हजार के बारे में पता किया। तेज सिंह ने अपने दोनों साथियों को इस बारे में बताया। इसके बाद साईकिल से ड्यूटी पर जाने के दौरान घनश्याम को पीछे से कॉल कर मोबाइल लूट की योजना बनाई। दो दिन तक पीछा करने के बाद मोबाइल लूटने में कामयाब नहीं हो सके, इसके बाद हत्या कर मोबाइल लेने की योजना बनाई।
जिस थाली में खाया उसी में छेद किया :- 25 अक्टूबर की शाम तेजसिंह अपने दोस्त असलम के साथ अग्रसेन नगर स्थित घनश्याम के घर पहुंचा। वहां पर खाना बनाकर तीनों ने साथ बैठकर खाना खाया। इसके बाद सोने की कहकर वहीं रुक गए। रात को सोते समय तेज सिंह व असलम ने गला घोंटकर घनश्याम की हत्या कर दी और मोबाइल अपने तीसरे साथी गोलू को दे दिया। इसके बाद एक दोस्त को कॉल कर लडक़ी से मिलने जाने की लिए उसकी स्कूटी मांगी। शव को कट्टे में डालकर रात के समय स्कूटी पर रखकर सीतापुरा औद्योगिक क्षेत्र में पटक कर आ गए।